सज्जन का जन्म 15 जनवरी, 1921 को जयपुर में एक कश्मीरी पंडित परिवार में हुआ

0
38

 

सज्जन का जन्म 15 जनवरी, 1921 को जयपुर में एक कश्मीरी पंडित परिवार में हुआ था। उनका पूरा नाम सज्जन लाल पुरोहित था, लेकिन भारतीय फिल्म उद्योग में उन्हें उनके पहले नाम से जाना जाता था

रामानंद सागर के ‘विक्रम बेताल’ में बेताल का किरदार निभाकर फेमस हुए सज्जन लाल पुरोहित 150 से ज्यादा फिल्मों में काम किया था साथ ही उन्होंने कई फिल्मों के लिए डायलॉग्स और गानों को लिरिक्स भी लिखे। दिवंगत एक्टर सज्जन का जन्म 15 जनवरी 1921 को जयपुर में हुआ था। उन्होंने जोधपुर से अपनी ग्रेजएशन करने के बाद कोलकाता में ईस्ट इंडिया कपंनी में काम भी किया। कोलकाता के बाद वह दूसरे विश्व युद्ध के दौरान मुंबई चले गए और वहीं से उनका सफर शुरू हुआ।

दिल से कवि, सज्जन ने अपनी प्रतिभा दिखाई जब उन्होंने मीना (1944) के लिए संवाद और दूर चलें (1946) और धन्यवाद (1948) के लिए गीत लिखे। उन्होंने पृथ्वी थिएटर में भी छोटी भूमिकाओं में अभिनय किया। उनकी अभिनय की पहली फिल्म धन्यावद थी । उसके बाद 1950 में बॉम्बे थिएटर की मुकद्दर रिलीज़ हुई। नायिका थीं नलिनी जयवंत ।

तब तक सज्जन फिल्मों में अच्छी तरह से स्थापित हो चुके थे। 1950 और 1960 के दशक में, उन्होंने सइयां, रेल का डिब्बा, बहाना, मल्किन, निर्मोही, कस्तूरी, मेहमान, लगान, बालिका विद्यालय, परिदान, 00 दुल्हे, घर-घर में जैसी फिल्मों में हीरो या साइड-हीरो के रूप में काम किया। दियोअली, हा-हा- ही – ही- हू-हू, पूनम झांझर और हल्ला-गुल्ला । नायक के रूप में उनकी अंतिम फिल्में काबुलीवाला और दो चोर थीं, और एक कलाकार के रूप में वह आखिरी बार 1986 में राजेश खन्ना के साथ फिल्म शत्रु में दिखाई दिए ।

150 से ज्यादा फिल्मों के कलाकार सज्जन ने टीवी सीरियल्स में भी काम किया। विक्रम और बेताल में उन्होंने बेताल की भूमिका निभा कर उस किरदार को जीवंत कर दिया।

प्रतिष्ठित टीवी शो विक्रम और बेताल और एक अन्य शो लेना-देना में काम किया। 17 मई, 2000 को उनका निधन हो गया। उनकी पुण्यतिथि पर आइए उन अभिनेताओं के जीवन को याद करते हैं जो एक कवि और संवाद लेखक भी थे।

पुण्यतिथि पर विशेष ????

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here