रानी दुर्गावती (1524-1564), गोंडवाना की रानी,

0
26

रानी दुर्गावती (1524-1564), गोंडवाना की रानी, भारतीय इतिहास में हिम्मत और लड़ाई की एक मशहूर शख्सियत हैं। वह मशहूर चंदेल राजवंश में पैदा हुईं और 1542 में गोंडवाना के राजा बनने वाले दलपत शाह से उनकी शादी हुई। 1550 में दलपत शाह के गुजर जाने के बाद, दुर्गावती अपने छोटे बेटे वीर नारायण के लिए रानी के तौर पर राज्य चलाने लगीं।

**इतिहासकार विंसेंट स्मिथ अपनी किताब में रानी दुर्गावती को “काबिल और बहादुर महिला” बताते हैं। वह उनकी राज्य चलाने की समझ की तारीफ करते हुए कहते हैं कि उन्होंने “अक्ल और सख्ती से राज्य चलाया।” दुर्गावती के राज में गोंडवाना के अंदरूनी हालात को सुधारने और राज्य की सुरक्षा को मजबूत करने पर ध्यान दिया गया।

लेकिन, उनकी सबसे बड़ी मुश्किल तब आई जब बादशाह अकबर के तहत बढ़ते हुए मुगल साम्राज्य की नजर गोंडवाना पर पड़ी। मुगलों को रणनीतिक रूप से अहम नर्मदा नदी की घाटी पर कब्जा करना था, जो गोंडवाना से होकर बहती थी। **इतिहासकार एम.एल. सिंह अपनी किताब “रानी दुर्गावती ऑफ गोंड्स” में लिखते हैं कि** दुर्गावती ने मुगलों की मांगों को मानने से इनकार कर दिया और युद्ध की तैयारी करने लगीं। उन्होंने गोंड और राजपूत सैनिकों को इकट्ठा किया और बड़ी मुगल सेना से लड़ने के लिए छापेमार युद्ध की रणनीति अपनाई।

गोंडवाना और मुगल सेनाओं के बीच की आखिरी लड़ाई 1564 में नरवर में हुई, जो आजकल के जबलपुर के पास है। **जैसा कि इतिहासकार सतीश चंद्र अपनी किताब “हिस्ट्री ऑफ मेडीवल इंडिया” में लिखते हैं,** दुर्गावती ने अपनी सेना को खुद आगे बढ़कर लड़ाया, लेकिन मुगल सेना के ज्यादा सैनिकों और हथियारों के सामने उन्हें हार का सामना करना पड़ा। घायल होने के बाद भी, उन्होंने बंदी बनने से मरना बेहतर समझा और अपने राज्य की आजादी के लिए अपनी जान दे दीं।

#इतिहास_की_एक_झलक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here