बेलगाम ज़बानों पर लगाम कब लगाएगी केन्द्र सरकार: हज़रत सैयद अयूब अशरफ किछौछवी

    0
    56

    लखनऊ 07 अप्रैल 2021 आॅल इण्डिया मोहम्मदी मिशन के प्रधान कार्यालय राम प्रसाद बिस्मिल काम्पलेक्स, बालागंज, लखनऊ में एक मिटिंग हुई जिसमें मिशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष हज़रत सैयद अयूब अशरफ किछौछवी ने कहा कि डासना मंदिर से सम्बन्ध रखने वाला नरसिंहानन्द और इन जैसे न जाने कितने नासूर विगत कई वर्षो से अल्पसंख्यक समाज विषेश और उनके धर्म को मुद्दा बनाकर अपनी राजनीति और माली महत्वाकाॅक्षाओं को पूरा करने में धार्मिक उन्माद फैलाने में लगे है और इनकी बेलगाम ज़बानों पर प्रदेश एवं केन्द्र सरकार कोई कानूनी कार्यवाई नही कर रही है ऐसे लोग देश में सम्प्रदायिकता फैलाने का काम बड़ी बेबाकी से कर रहे है और हद तो यहाॅ तक पॅहुच गयी कि पवित्र र्कुआन, अल्लाह और उसके रसूल पैगम्बर ए इस्लाम की शान में आपत्तिजनक व अषोभनीय टिप्पणी करके धार्मिक आस्था को भड़काने का साहस कर भारत की एकता भाईचारो को तोड़ने का काम कर रहे है इससे पूर्व ऐसे लोग सोशल मिडिया व पत्रिकाओं के माध्यम से यह हरकत करते थे लेकिन नरसिहानन्द ने नई दिल्ली प्रेस क्लाब में, भारत सरकार की नाक के नीचे प्रेस कान्फेन्स करके पैगम्बर इस्लाम पर भ्रामक, असत्य, अषोभनीय और आपत्तिजनक भाषा का प्रयोग कर करोड़ो लोगों के दिलों पर आतंकित हमला किया है जो माफी लायक नही है इस तरह की हरकत से क्या समझा जाए क्या भारतीय दण्ड संहिता, संविधानिक संस्था, प्रदेश व केन्द्र सरकार का ऐसे सम्प्रदायक और आतंकवादी व्यक्तियों की नज़र में कोई महत्व नही रह गया है क्या ऐसे लोग इन संस्थाओं को अपना संरक्षण का स्थान समझ रहे है इस तरह की हरकते भारत की क्षवि पूरी दुनिया में खराब हो रही है केन्द्र सरकार भली प्रकार जानती है कि इस्लाम धर्म एवं पैगम्बर ए इस्लाम हज़रत मोहम्मद सलल्लाहो अलेही वसल्लम के मानने व चाहने वाले सिर्फ भारत में ही नही बल्कि पूरी दुनिया में मौजूद है ऐसा न हो की इस तरह की हरकते भारत की विदेश नीतियों के लिए खतरा बन जाए जज़रतुल अरब आदि देश भारत की हर गतिविधियों पर निगाह रखे हुए है और इस तरह की हरकतें देश की कुटनीति को कमजोर कर रही है। आज दुनिया भर में भारत की राजनीति, समाजिक, सम्प्रदायिक और मुस्लिम विरोधी गतिविधियांे पर चर्चा हो रही है ऐसा न हो इसका फायदा हमारा दुशमन देश उठा ले। भारत के नागरिकों ने बड़ी कुर्बानियों के बाद भारत की आज़ादी प्राप्त की है और जिस तरह से इस देश को सम्प्रदायिकता की आग में झोका जा रहा है यह देश हीत में अच्छा नही है भारत के हर नागरिक का कर्ताव्य है कि वह भारत की एकता और अखणता को बचाने के लिए इस तरह के लोगों के विरूध आवाज़ उठाए वरन् इसके बहुत दुष्य परिणाम देखने को मिलेगा। भारत का मुसलमान कमज़ोर नही बल्कि वह भारत की तमाम धर्मनिरपेक्ष पार्टी और मुस्लिम मज़हबी और सियासी रहनुमा को देख रही है कि वह अपनी दुनिया और मालोज़र के चक्कर में अपनी ज़बानों पर कब तक ताला लगाए बैठे रहेगे। भारत का मुसलमान देश हीत में कभी जाति, सम्प्रदाय, धर्म देखकर मतदान नही करता बल्कि उस राजनीति पार्टी के उम्मीदवार को चुनता है जो देश की गंगा जमुनी तहज़ीब और सभी सम्प्रदाय एवं धर्म के लोगों को लेकर चलने की बात करता हो। आज़ादी से लेकर आज तक मुसलमानों ने बहुत ज़ख्म सहकर अपनी जानों माल की क्षति को भुलाकर भारत की गंगा जमुनी तहज़ीब को बचाने का प्रयास किया है लेकिन भारत के मुसलमानों की कुर्बानियों को उनकी कमज़ोंरी समझकर वोट की राजनीति करने वालों ने सम्प्रदायिक शक्तियों को पैर पसारने का पूरा मौका दिया जो आज सभी तथाकथित धर्मनिरपेक्ष पार्टी के लिए एक अभिशाप बन गया है अगर किसी भी राजनीति पार्टी ने ऐसे सम्प्रदायिक और देश विरोधी ताकतों पर लगाम लगाई होती तो आज देश में जिस तरफ बेगुनाह लोगों पर अत्याचार हो रहा और लोगों की आवाज़ को प्रशसनिक तंत्र के माध्यम से दबाया जा रहा है वह न होता और प्रशसनिक तंत्र अपना काम इमानदारी से करता रहता और दोषी को सलाखों के पीछे उसकी जगह पर रखता। अगर प्रदेश व केन्द्र सरकार शीघ्र इस तरह के लोगों को गिरफतार नही करती तो मजबूर होकर आॅल इण्डिया मोहम्मदी मिशन इस सम्बन्ध में हिन्दुस्तान के तमाम ओलेमा ए एकराम, मुफतीयाने एकराम और खानकाहों के सज्जादा नषीन व माशयक को पत्र लिखकर ऐसे हालात में हमारा क्या रद्दों अमल रहना चाहिए उस पर उनकी राय लेकर फैसला लिया जाएगा क्योकि अब बात सर से ऊपर हो गयी है कुछ न कुछ दिन बाद कोई न कोई सरफिरा आतंकवादी मानसिकता वाला अभद्रभाषा का प्रयोग करके मुस्लिम समाज को आतंकीत करके उनकों सड़कों पर उतरने पर मजबूर कर देता है और अगर मुस्लिम समाज भारत के संविधान, भारतीय दण्ड संहिता और कानून का सहारा लेता है तो उसके प्रार्थना पत्र पर कोई कानूनी कार्यवाई नही होती जिससे इस तरह के अपराधियों के हौसले और बुलन्द हो जाते है और यह लोग देश में अराजकता फैलाकर देश में आशान्ति और विकास के कामों में बाधा डालते है आॅल इण्डिया मोहम्मदी मिषन इस सम्बन्ध में एक प्रार्थना पत्र एवं ज्ञापन जिला प्रशसन और शसन को भेज रहा है।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here