जनाबे फ़ातिमा ज़हरा का रौज़ा नन्ने खेड़ा लखनऊ का दोबारा निर्माण मौलाना यासूब अब्बास ने अपने पैसे से करवाया

0
79

रसूले अकरम मोहम्मद मुस्तफ़ा स,अ की इकलौती बेटी का रौज़ा सऊदी अरब में स्थित था जिसको आले सऊद ने लगभग 101 वर्ष पूर्व ध्वस्त कर दिया, जिससे पूरी दुनिया में उनसे मोहब्बत करने वालों में बहुत दुख और सऊदी हुकूमत के खिलाफ रोष है, उसको दोबारा बनाने के लिए शिया मांग करते आए हैं,
हिंदुस्तान में मौलाना यासूब अब्बास लगभग 30 वर्षों से रौज़े को दोबारा बनाने के लिए शांतिपूर्वक विरोध प्रदर्शन करके मांग करते आए हैं,
इस संबंध में मौलाना यासूब अब्बास प्रधानमंत्री एवं विदेश मंत्री को ज्ञापन एवं रौज़े को दोबारा बनाने के लिए चर्चा कर दखल देने की मांग कर चुके हैं, मौलाना का ये भी कहना है कि सऊदी हुकूमत अगर रौज़े दोबारा नहीं बनना चाहती है, तो हमको रौज़ा बनाने की अनुमति दे, तो हम अपने पैसे से इसका निर्माण कराएंगे,
वर्तमान सऊदी हुकूमत जहां इस्लाम से प्रतिबंध व्यापार जैसे (मॉडल शॉप, पिक्चर हॉल) बना रही है, पर प्रोफेट मोहम्मद की बेटी के रौज़े को दोबारा बनाने एवं मौलाना यासूब अब्बास को बनाने की अनुमति नहीं दे रही है, इस सिलसिले में हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी 17 अप्रैल, दिन बुद्ध, समय 12:30 स्थान लखनऊ शहीद स्मारक पर एक विशाल जनसभा करने जा रहे हैं, जिसमें हजारों लाखों की संख्या में लोग पहुंचते हैं याद रहे की लखनऊ नन्हे खेड़ा सुफ्फा रसूले अकरम मोहम्मद मुस्तफ़ा अ,स की इकलौती बेटी का रौज़ा सऊदी अरब में स्थित था जिसको आले सऊद ने लगभग 101 वर्ष पूर्व ध्वस्त कर दिया, जिससे पूरी दुनिया में उनसे मोहब्बत करने वालों में बहुत दुख और सऊदी हुकूमत के खिलाफ रोष है, उसको दोबारा बनाने के लिए शिया मांग करते आए हैं,
हिंदुस्तान में मौलाना यासूब अब्बास लगभग 30 वर्षों से रौज़े को दोबारा बनाने के लिए शांतिपूर्वक विरोध प्रदर्शन करके मांग करते आए हैं,
इस संबंध में मौलाना यासूब अब्बास प्रधानमंत्री एवं विदेश मंत्री को ज्ञापन एवं रौज़े को दोबारा बनाने के लिए चर्चा कर,दखल देने की मांग कर चुके हैं, मौलाना का या भी कहना है कि सऊदी हुकूमत अगर रौज़े को दोबारा नहीं बनना चाहती है तो हमको रौज़ा को बनाने की अनुमति दे, तो हम अपने पैसे से इसका निर्माण कराएंगे,
वर्तमान सऊदी हुकूमत जहां इस्लाम से प्रतिबंध व्यापार जैसे (मॉडल शॉप, पिक्चर हॉल) बना रही है, पर प्रोफेट मोहम्मद की बेटी के रौज़े को दोबारा बनाने एवं मौलाना यासीन अब्बास को बनाने की अनुमति नहीं दे रही है, इस सिलसिले में हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी 17 अप्रैल, दिन बुद्ध, समय 12:30 स्थान लखनऊ शहीद स्मारक पर एक विशाल जनसभा करने जा रहे हैं, जिसमें हजारों लाखों की संख्या में लोग पहुंचते हैं याद रहे की लखनऊ नन्हे खेड़ा सुफ्फा ; पर जनाबे फातिमा ज़हरा के रौज़ा जो की काफी मख़दूष हो गया था, जिसका पुनः निर्माण मौलाना यासूब अब्बास ने अपने पैसे बगैर किसी चंदे के बनवाया,पर जनाबे फातिमा ज़हरा के रौज़ा ज़मीदोष हो गया था, जिसका पुनः निर्माण मौलाना यासूब अब्बास ने अपने पैसे बगैर किसी चंदे के बनवाया,

शाबू ज़ैदी
7617032786

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here